Search
Generic filters
Exact matches only
Filter by Custom Post Type
ahmad faraz shayari 2 lines

Ahmad Faraz Shayari 2 lines – Best of Faraz Ahmad 2 lines

Here is a collection of Ahmad Faraz Shayari 2 lines. Ahmad Faraz was a very famous Shayar of Urdu Adab. He wrote a lot and his focus on love and pain Shayari. Ahmad Faraz Shayari 2 lines are all about love and pain of love. He wrote awesome Shayari which is very heart touching.  We made this collection from his some famous ghazals of Ahmad Faraz Shayari 2 lines. So we tried to make a good collection and hope you will enjoy this kind of Shayari.

Ahmad Faraz was born in Kohat, ( British India) to Syed Muhammad Shah Barq. His brother is Syed Masood Kausar. He moved to Peshawar with his family. He studied in famous Edwardes College, Peshawar and received Masters in Urdu and Persian from Peshawar University. Let read this collection of Ahmad Faraz Shayari 2 lines.

 

AHMAD FARAZ SHAYARI 2 LINES

 

Jaane Kis Baat Pe Us Ne Mujhe Chor Diye Hai Faraz

Main To Mukhlis Tha Kisi Maan KI Duaon KI Tarah

 

जाने किस बात पे उस ने मुझे छोड़ दिया है फ़राज़

मैं तो मुख़लिस था किसी माँ की दुआओं की तरह

 

Us Shaks Ko To Bichadeny Ka Saleka Nahi FARAZ

Jatay Hoe Khud KO Mere Pass Chor Gaya

 

उस शकस को तो बिछड़ने का सालेका नही फ़राज़

जाते होए खुद को मेरे पास छोड़ गया

 

Ab Use Rooz Na Sochu To Badan Toot’ta Hai FARAZ

Umer Guzri Hai Uss Ki Yaad Ka Nasha Karte Karte

 

अब उसे रोज़ ना सोचो तो बदन टूट’ता है फ़राज़

उम्र गुज़री है उस की याद का नशा करते करते

 

Be-Jaan To Main Ab Bhe Nahi FARAZ

Magar Jise Jan Kehte The Wo Chor Gaya

 

बे-जान तो मैं अब भे नही फ़राज

मगर जिसे जान कहते थे वो छोड़ गया

 

Zabt e Ghum Koi Aasan Kam Nahi Faraz

Aag Hote Hai Wo Aanso, Jo Piye Jate Hain

 

ज़ब्त ए गम कोई आसान कम नही फ़राज

आग होते है वो आसू, जो पिए जाते हैं

 

Ahmad Faraz Shayari 

 

Kyun Ulajhta Rehta Hai tu Logo Se Faraz

Yeh Zrori To Nahi Woh Chehra Sabhe Ko Pyara Lage

 

क्यूँ उलझता रहता है तू लोगो से फ़राज़

यह ज़रूरी तो नही वो चेहरा सभी को प्यारा लगे

 

Ab jis ke ji main aye wohi pa le roshni

humne to dil jala ker sar-e-rah rakh dia

 

अब जिस का जी मे आए वोही पा ले रोशनी

हमने तो दिल जला कर सर-ए-राह रख दिया

ahmad faraz shayari 2 lines

Ankh main khamoshi, labon pe sawal, rukh pe sadgi

kesy kesy rang hain is tasveer main

 

आँख में खामोशी, लबों पे सवाल, रुख़ पे सादगी

कैसे कैसे रंग हैं इस तस्वीर में

 

Tumhi ne humko sunaya na apna dukh warna

dua wo kerty ke asmaan hilla dete

 

तुम्ही ने हमको सुनाया ना अपना दुख वरना

दुआ वो करते के आसमान हिला देते

 

Ye dunya gum to deti hai shareek-e-gum nahi hoti

kisi k door jany se mohabat kam nahi hoti

 

ये दुन्या गम तो देती है शरीक-ए-गम नही होती

किसी क दूर जाने से मोहब्बत कम नही होती

 

koi aisa pyar ka bazaar hota

jis main nilaam wo sar-e-bazar hota

 

कोई ऐसा प्यार का बाज़ार होता

जिस में नीलाम वो सर-ए-बाज़ार होता

 

hum usy khareedty sab kuch beech kar

aur phir dekhty kesy wo kisi aur k naam hota

 

हम उसी खरीदते सब कुछ बेच कर

और फिर देखते कैसे वो किसी और के नाम होता

 

FARAZ AHMAD SHAYARI 2 LINES

 

Koun kisi k sath kitna mukhlis hai faraz

Waqt sab ki aukaat bta deta hai

 

कौन किसी के साथ कितना मुख़लिस है फ़राज़

वक़्त सब की औकात बता देता है

 

Ab maayos q ho us ki bewafai pe Faraz?

tm khud hi to kehty thy k wo sab se juda hai

 

अब मायूस क्यू हो उस की बेवफ़ाई पे फ़राज़?

तुम खुद ही तो कहते थे के वो सब से जुदा है

 

Asaan nahin aabad karna ghar mohabat ka

ye unka kaam hai jo zindagi barbad karty hain

 

आसान नहीं आबाद करना घर मोहबत का

ये उनका काम है जो ज़िंदगी बरबाद करती हैं

 

Tujhy bholny ki koshish karun ga main Faraz

ho saky to tum b mujhy yaad na ana

 

तुझे भूलने की कोशिश करूँ गा मैं फ़राज़

हो सके तो तुम ब मुझे याद ना आना

 

Usne mujh chor dia to kia hua Faraz

Mane bhi to chora tha sara jahan us k liye

 

उसने मुझ चोर दिया तो क्या हुआ फ़राज़

मैने भी तो छोड़ा था सारा जहाँ उस के लिए

 

Iss Dafa Barshein Rukti He Nahi Faraz,

Hum Ne Ansu Kia Piye Sare Mosam Ro Pare

 

इस दफ़ा बारिशें रुकती नही है फ़राज़,

हम ने आँसू क्या पिए सारे मौसम रो पड़े

Ab ke ham bichde to shayad kabhi khwabon men mile
Jis tarah sukhe hue phul kitabon men mile

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख्वाबों में मिले
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिले

 

So this is the collection of Ahmad Faraz Shayari 2 lines. We hope you enjoyed this Shayari. If you have any kind of query or suggestions please write to us in the comment box.

sad shayari in hindi for life

faiz ahmad faiz shayari

2 line shayari in hindi

Sher o Shayari on Zindagi

Leave a Comment

Open

Close