Search
Generic filters
Exact matches only
Filter by Custom Post Type
Sher o shayari on zindagi

Sher o Shayari on Zindagi – latest sher-o-shayari collection

Sher o Shayari on Zindagi is the topic on which mostly every poet wrote. It is the best way to say something and express their feelings. Shayar loves to write on this topic. The best thing about this topic is very wide and lots of things are there to write and have no limits. Sher o Shayari on Zindagi almost touches every aspect of life and gives a better way to understand the small things about Zindagi. In this category, we write sher of Wasim Barelvi.

We collect some good collections of Sher o Shayari on Zindagi which are written by the very famous poet Prof. Waseem Barelvi. This man is amazing in the field of Sher o Shayari and he wrote almost every field of Zindagi but mostly his Shyer is on sher o shayari on zindagi.

SHER O SHAYARI ON ZINDAGI

Kholiye chal ke gham-e-dil duka’n or kahi

Man’d pad jaye na zakhmo ke nisha’n or kahi

 

खोलिए चल के गम-ए-दिल दुका’न ओर कही

मान’द पढ़ जाए ना ज़ख़्मो के निशा’न ओर कही

 

Bad-e-kam zarf ne gulshan me thaherne na diya

Dhundhna hi pada khushbo ko maka’n or kahi

 

बाद-ए-कम zर्फ ने गुलशन मे ठहेरने ना दिया

ढूँढना ही पड़ा खुश्बू को मका’न और कही

 

Wadiye sangh me fir jasn ki tayyari hai

Kya koi ban gaya shishe ka maka’n or kahi

 

वादिये संघ मे फिर जश्न की तय्यरी है

क्या कोई बन गया शीशे का मका’न और कही

 

Kais-o–farhaad to milte rahe dunya ko wasim

Pyar ko mil na saka Shahjahan or kahin

 

कैस-ओ–फरहाद तो मिलते रहे दुन्या को वसीम

प्यार को मिल ना सका शाहजहाँ ओर कहीं

 

Wo jo kahte hai pyar na hone denge

Ham unhe rah ki diwaar na hone denge

 

वो जो कहते है प्यार ना होने देंगे

हम उन्हे राह की दीवार ना होने देंगे

 

Tu jaha jise chahe raund ke aage nikal jaye

Ham teri itni bhi raftaar n ahone denge

 

तू जहा जिसे चाहे रौंद के आगे निकल जाए

हम तेरी इतनी भी रफ़्तार न होने देंगे

Sher o shayari

Kahan sawalo ke tumse jawab mangte hain

Ham apni aankho ke hisse khawab mangte hain

 

कहाँ सवालो के तुमसे जवाब माँगते हैं

हम अपनी आँखो के हिस्से खवाब माँगते हैं

 

Hami ko darya pe jane se rokne wale

Ham hi se pani ka sara hisab mangte hain

 

हामी को दरया पे जाने से रोकने वाले

हम ही से पानी का सारा हिसाब माँगते हैं

 

Ajeeb log hain in par to raham aata hai

Jo kaante bo kar zamee’n se gulab mangte hain

 

अजीब लोग हैं इन पर तो रहम आता है

जो काँटे बो कर ज़ामी’न से गुलाब माँगते हैं

 

Bahel na payenge batoo’n se aaj ke bache

Ye har sawal ka apne jawab mangte hain

 

बहेल ना पाएँगे बातो’न से आज के बचे

ये हर सवाल का अपने जवाब माँगते हैं

 

Darya ka sara nasha utaarta chala gaya

Mujhko duboya or mai ubharta chala gaya

 

दरया का सारा नशा उतारता चला गया

मुझको डुबोया और मै उभरता चला गया

 

Wo pairwi to jhoot ki karta chala gaya

Lekin bas uska chehra utarta chala gaya

 

वो पैरवी तो झूट की करता चला गया

लेकिन बस उसका चेहरा उतरता चला गया

Sher o shayari on zindagi

Har saans kisi marham se kam na thi

Mein jaise koi zakhm tha bharta chala gaya

 

हर साँस किसी मरहम से कम ना थी

मैं जैसे कोई ज़ख़्म था भरता चला गया

 

Manzil samajh kar baith gaye jinko chand log

Mein aise rastoo’n se guzarta chala gaya

 

मंज़िल समझ कर बैठ गये जिनको चन्द लोग

में ऐसे रास्तो’न से गुज़रता चला गया

Sher o shayari on zindagi

Duyna samajh me aayi magar ayi der se

Kachcha bahut tha rang utarta chala gaya

 

दुन्या समझ मे आई मगर आई देर से

कच्चा बहुत था रंग उतरता चला गया

 

Mainkhane ke dard ko kisne jana hai

Sabko apni apni pyaas bujhana hai

 

मैं-खाने के दर्द को किसने जाना है

सबको अपनी अपनी प्यास बुझाना है

 

Kisse bachna hai kisse hath milana hai

Sabke paas apna apna paimana hai

 

किससे बचना है किससे हाथ मिलना है

सबके पास अपना अपना पैमाना है

 

Aag hawa pani se kya lena dena

Mitti ke hai mitti me mil jana hai

 

आग हवा पानी से क्या लेना देना

मिट्टी के है मिट्टी मे मिल जाना है

 

Ander se jab saare rishte bikhre ho

Ghar aangan ki baat to bahar jana hai

 

अंदर से जब सारे रिश्ते बिखरे हो

घर आँगन की बात तो बाहर जाना है

 

Mujhko gunahgaar kahe or saza na de

Itna bhi ikhtiyaar kisi ki khuda na de

 

मुझको गुनहगार कहे ओर सज़ा ना दे

इतना भी इख्तियार किसी की खुदा ना दे

 

Mai bolta gaya hu wo sunta gaya khamosh

Aise bhi meri haar hui hai kabhi kabhi

 

मैं बोलता गया हू वो सुनता गया खामोश

ऐसे भी मेरी हार हुई है कभी कभी

 

Choti choti bate kah ke bade kaha ho jaoge

Patli galiyo se  niklo to khuli sadak par aaoge

 

छोटी छोटी बाते कह के बड़े कहा हो जाओगे

पतली गलियो से  निकलो तो खुली सड़क पर आओगे

 

Sher o shayari  by Wasim Brelvi

 

Ye soch kar koi ahde wafa karo hamse

Are ham ek wade pe umr guzaar dete hain

 

ये सोच कर कोई अहदे वफ़ा करो हमसे

अरे हम एक वादे पे उम्र गुज़ार देते हैं

 

Tum meri taraf dekhna chodo to batau

Har shaks tumhari hi taraf dekh raha hai

 

तुम मेरी तरफ देखना छोड़ो तो बता-उ

हर शक्स तुम्हारी ही तरफ देख रहा है

 

Mai usko aansuo se likh raha hu

Ke mere baad koi padh na paye

 

मैं उसको आँसुओ से लिख रहा हू

के मेरे बाद कोई पढ़ ना पाए

 

Tumhara saath bhi choota tum ajnabi bhi hue

Magar zamana abi bhi tumhe mujh me dhundhta hai

 

तुम्हारा साथ भी छूटा तुम अजनबी भी हुए

मगर ज़माना अबी भी तुम्हे मुझ मे ढूंढता है

 

Doori hui to unse kareeb or ham hue

Are ye kaise fasle the jo badhne se kam hue

 

दूरी हुई तो उनसे करीब और हम हुए

अरे ये कैसे फ़ासले थे जो बढ़ने से कम हुए

 

Pyaar ke bare me itna nahi socha jata

Usse kah do meri aankho ka safar khatm kare

 

प्यार के बारे मे इतना नही सोचा जाता

उससे कह दो मेरी आँखो का सफ़र ख़त्म करे

 

Shayari on Zindagi by Wasim Brelvi

 

Tujhe pane ki koshish me kuch itna kho chuka hu main

Ke to mil bhi agar jaye tu ab milne ka gam hoga

 

तुझे पाने की कोशिश मे कुछ इतना खो चुका हू मैं

के तू मिल भी अगर जाए तो अब मिलने का गम होगा

 

Usi ko tod raha hu jise banana hai

Are wo janta hi ni ke kaise ghar chalana hai

 

उसी को तोड़ रहा हू जिसे बनाना है

अरे वो जनता ही नही के कैसे घर चलना है

 

Mai uski kamiyo pe ungli utha ni sakta

Mujhe to aakhri dam tak use nibhana hai

 

मैं उसकी कमीयो पे उंगली उठा नही सकता

मुझे तो आखरी दम तक उसे निभाना है

 

 

Koi bhi shaakh kabi milkiyat ni hoti

Jaha pe baithe parinda wahi thikaana hai

 

कोई भी शाख कभी मिल्कियत नही होती

जहा पे बैठे परिंदा वही ठिकाना है

 

Tum apne paas rakho apne surajoo ka hisaab

Mujhe to akhri ghar tak diya jalana hai

 

तुम अपने पास रखो अपने सुरजू का हिसाब

मुझे तो आखरी घर तक दिया जलना है

Below Updation done in the year 2020

Tamam din ki talab raah dekhti hogi
Jo khali haath chale ho to ghar nahi jana

 

तमाम दिन की तलब राह देखती होगी
जो खाली हाथ चले हो तो घर नही जाना

This is our new collection of sher o shayari on zindagi by Prof. Wasim Barelvi. We hope you enjoy this sher o shayari. Please write to us if you have any kind of suggestions.

sad shayari in hindi for life

2 line shayari in hindi 

faiz ahmad faiz shayari 

Leave a Comment

Open

Close