Search
Generic filters
Exact matches only
Filter by Custom Post Type
dard bhari shayari in hindi 140

Dard bhari shayari in hindi 140 – दर्द भारी शायरी इन हिन्दी 140

Here it is a collection of dard bhari shayari in hindi 140 words. We collect some best sher for the Hindi version and make a collection of dard bard bhari shayari in Hindi 140 words. Shayari is the thing by which you can express your feeling to someone. Shayari which has pain is very depth and always touches the heart. It is a very kind way to say more in fewer words. There is many poets who writes in this category like Ahmad Faraz and Jaun Elia etc

Dard bhari shayari in hindi 140 is a wide topic and it is very tough to make the best collection but we try to collect some good sher for you. So enjoy this collection of dard bhari shayari in hind 140 and English version also.

दर्द भारी शायरी इन हिन्दी 140

 

तन्हाइयो के दर्द से खूब वाक़िफ़ था वो फ़राज़

फिर भी दुन्या मे मुझे तन्हा बनाया उसने -140

 

Tanhaiyo ke dard se khoob waqif tha wo Faraz

Phir bhi dunya me mujhe tanha banaya usne-140

 

 

 

अपने सिवा बताओ तुम्हे कुछ मिला है फ़राज़

हज़ार बार ली है तुमने मेरे दिल की तलाशी -140

 

Apne siwa batao tumhe kuch mila hai faraz

Hazar bar li hai tumne mere dil ki talashi-140

 

 

 

आवाज़ दे के छुप गयी हर बार ज़िंदगी

हम ऐसे सादे दिल थे के हर बार आंगे-140

 

Awaaz de ke chup gayi har baar zindagi

Ham aise saade dil the ke har bar aange-140

 

 

हम तो समझे थे के एक ज़ख़्म है भर जंगे

क्या खबर थी की राग-ए-जेया’न मे उतर जाएँगे-140

 

Ham to samjhe the ke ek zakhm hai bhar jange

Kya khabar thi ki rag-e-jaa’n me uatar jaynge-140

 

Dard bhari Shayari in Hindi 140

 

उसे पाना उसे खोना उसी के हिजर मे रोना

यही अगर इश्क़ है ‘मोहसिन’ तो हम तन्हा ही अच्छे हैं-140

 

Use pana use khona usi ke hijr me rona

Yahi agar ishq hai ‘mohsin’ to ham tanha hi ache hai-140

 

 

 

एक पल मे जो बर्बाद कर देते हैं दिल की बस्ती को फ़राज़

वो लोग देखने मे अक्सर मासूम होते हैं-140

 

Ek pal me jo barbaad kar dete hain dil ki basti ko faraz

Wo log dekhne me aksar masoom hote hain-140

 

 


Dard bhari shayari in hindi 140

 

हम ने कहा अगर भूल जाओ हमे तो कमाल हो जाए

हम तो फक़त बात की और उस ने कमाल कर दिया-140

 

Ham ne kaha agar bhool jao hame to kamal ho jaye

Ham to faqat bat ki aur us ne kamal kar diya-140

 

 

 

कहने को मेरा उससे कोई वास्ता नही अमजद

मगर वो शक्स मुझे भूलता नही-140

 

Kahne ko mera usse koi wasta nahi amjad

Magar wo shaks mujhe bhoolta nahi-140

 

 

मेरे सब्र की इंतेहा क्या पूछते हो फ़राज़

वो मुझसे लिपट के रोया किसी और के लिए-140

 

Mere sabr ki inteha kya puchte ho faraz

Wo mujhse lipat ke roya kisi aur ke liye-140

 

 

कौन किस के साथ कितना मुख़लिस है फ़राज़

वक़्त हर शक्स की औकात बता देता है-140

 

Kon kis ke saath kitna mukhlis hai faraz

Waqt har shaks ki aukaat bata deta hai-140

 

 

 

मेरा उस शहेर-ए-अदावत मे बसेरा है

जहा लोग सजदो मे भी लोगो का बुरा सोचते है-140

 

Mera us shaher-e-adawat me basera hai

Jaha log sajdo me bhi logo ka bura sochte hai-140

 

Dard bhari shayari in hindi 140

 

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है

सो उस शहेर मे कुछ दिन ठहेर के देखते है-140

 

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hai

So us shaher me kuch den thaher ke dekhte hai-140

 

 

ये जो सिलसिला है एक दर्द का ये तोहफा यू ही मिला नही

मेरा जुर्म है मेरी सादगी मेरी और कोई ख़ाता नही-140

 

Ye jo silsila hai ek dard ka ye tohfa yu hi mila nahi

Mera jurm hai meri saadgi meri aur koi khata nahi-140

 

 

DARD BHARI SHAYARI IN HINDI 140

 

किसी से जुड़ा होना अगर इतना आसान होता फ़राज़

तो जिस्म से रूह लेने कभी फरिश्ते नही आते-140

 

Kisi se juda hona agar itna aasan hota faraz

To jism se rooh lene kabhi farishte nahi aate-140

 

कोई ज़िंदगी की आज़माशो’न से गुज़रा

को-ई इश्क़ का रोग लगा बैठा

कोई कलाम से दर्द लिखने लगा

को-ई शायर खुद को बना बैठा-140

 

Koi zindagi ki aazmaisho’n se guzra

KKoi ishq ka rog laga baitha

Koi kalam se dard likhne laga

KKoi shayar ko khud bana baitha-140

 

ज़िंदगी यू भी बहुत कम है मुहब्बत के लिए

रूठ कर वक़्त गवाने की ज़रूरत क्या है-140

 

Zindagi yu bhi bahut kam hai muhabbat ke liye

Ruth kar waqt gawane ki zaroorat kya hai-140

 

 

जिस दिन करेगा याद मेरी मुहब्बत को

बहुत रोएगा खुद को बे वफ़ा कह कर-140

 

Jis din karega yaad meri muhabbat ko

Bahut royga khud ko be wafa kah kar-140

 

रूठ जाने की अदा हम को भी आती है

काश होता कोई हम को भी मनाने वाले-140

Dard bhari shayari in hindi 140

 

Rooth jane ki ada ham ko bhi aati hai

Kaash hota koi ham ko bhi manane wale-140

 

 

Dard bhari shayari in hindi 140

 

किसी बे वफ़ा की खातिर ये जुनू फ़राज़ कब तक

जो तुम्हे भुला चुका है उसे तुम भी भूल जाओ-140

Kisi be wafa ki khatir ye junu faraz kab tak

Jo tumhe bhula chuka hai use tum bhi bhool jao-140

 

 

सुन कर तमाम रात मेरी दस्ताने-ए-गम

बोले तो सिर्फ़ ये बात के बहुत बोलते बोलते हो तुम-140

 

 

Sun kar tamam raat meri dastane-e-gam

Bole to sirf ye baat ke bahut bolte bolte ho tum-140

 

 

चाहने वालो को मिलते नही चाहने वाले

मैने हर दगाबाज़ के साथ सनम देखे-140

 

Chahne walo ko milte nahi chahne wale

Maine har dagabaaz ke sath sanam dekhe-140

 

 

दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है

और तुझ से बिछड़ जाने का डर नही जाता-140

 

Dil ko teri chahat pe bharosa bhi bahut hai

Aur tujh se bichad jane ka dar nahi jata-140

 

 

नही शिकवा मुझे कुछ बे वफ़ाई का तेरी हरगिज़

गिला तब हुआ अगर तूने किसी से भी निभाया हो-140

 

Nahi shikwa mujhe kuch be wafai ka teri hargiz

Gila tab hua agar tune kisi se bhi nibhaya ho-140

 

 

तू भी आईने की तरह बे वफ़ा निकला

जो सामने आ गया उसी का हो गया-140

Tu bhi ayine ki tarah be wafa nikla

Jo samne a gaya usi ka ho gaya-140

 

 

 

मुझे भी आईने जैसा कमाल हासिल है

मई टूटता हो फिर बे शुमार होता हू-140

 

Mujhe bhi ayine jaisa kamal hasil hai

Mai tutta ho phir be shumar hota hu-140

 

Dard shayari in hindi 

here we try to collect some dard bhari shayari in hindi 140. we hope you enjoy it. 

 

हम मुहब्बत की इंतेहा कर दे

हां मगर इब्तिदा कोई और करे-140

 

Ham muhabbat ki inteha kar de

Haan magar ibtida koi aur kare-140

 

उस शहेर मे कितने चेहरे थे कुछ याद नि सब भूल गये

एक शाकस किताबो जैसा था वो शक्स ज़ुबानी याद हुआ-140

 

Us shaher me kitne chehre the kuch yaad ni sab bhool gye

Ek shaks kitabo jaisa tha wo shaks zubaani yaad hua-140

dard bhari shayari in hindi 140

 

मैने पूछा कैसे निकलती है एक पल मे जान

उसने चलते चलते मेरा हाथ छोड़ दिया-140

 

Maine pucha kaise nikalti hai ek pal me jaan

Usne chalte chalte mera hath chod diya-140

 

हर एक बात पे कहते हो तुम की ‘तू क्या है’

तुम ही कहो की ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है-140

 

Har ek baat pe kahte ho tum ki ‘tu kya hai’

Tum hi kaho ki ye andaaz-e-guftugu kya hai-140

 

मैं नादान था जो वफ़ा की तलाश करता रहा ‘ग़ालिब’

ये भी ना सोचा की अपनी साँस भी एक दिन बे वफ़ा हो जयगी-140

 

Mai nadan tha jo wafa ki talash karta raha ‘Ghalib’

Ye bhi na socha ki apni saans bhi ek din be wafa ho jaygi-140

 

हम ही मे ना थी कोई बात, याद ना तुम को आ सके

तुमने हमे भुला दिया हम ना तुमको भुला सके-140

 

Ham hi me na thi koi baat yaad na tum ko a sake

Tumne hame bhula diya ham na tumko bhula sake-140

 

 shayari in hindi 

 

छोड़ दो अब उस से वफ़ा की उमीद ‘ग़ालिब’

जो रुला सकता है वो भुला भी सकता है-140

 

Chod do ab us se wafa ki umeed ‘Ghlaib’

Jo rula sakta hai wo bhula bhi sakta hai-140

 

 

 

चाँदनी रात के खामोश सितरू’न की कसम

दिल मे तेरे सिवा कोई भी आबाद नही-140

 

Chandni raat ke khamosh sitaroo’n ki kasam

Dil me tere siwa koi bhi abad nahi-140

 

 

तुम हमारे किसी तरह ना हुए

वरना दुन्या में क्या नही होता-140

 

Tum hamare kisi tarah na hue

Warna dunya mein kya nahi hota-140

 

 

रोने से और इश्क़ मे बे बक हो गये

धोया गये हम इतने के बस पाक हो गये-140

 

Rone se aur ishq me be bak ho gaye

Dhoya gaye ham itne ke bas pak ho gaye-140

 

 

 

बे वजह नही इश्क़ मे कोई ग़ालिब

जिसे खुद से बढ़ के चाहो वो रुलाता ज़रूर है-140

 

Be wajah nahi ishq me koi ghalib

Jise khud se badh ke chaho wo rulata zaroor hai-140

 

This is our collection of dard bhari shayari in hindi 140 for those who love some good sher and for those who want to say something to loving one. If you have any queries or suggestions about dard bhari shayari in hindi, please write us in the comment box.

shayari in hindi about life 

Sher o Shayari on Zindagi 

2 line shayari in hindi 

Leave a Comment

Open

Close