Search
Generic filters
Exact matches only
Filter by Custom Post Type
Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari|Best 25+ Sher of Best Poets|Nazm|Ghazal

Desh Bhakti Shayari is a very trending, demanding and Challenging tittle of Shayari. Shayari is not completed without appreciation, opposition, favor, against, etc

Desh Bhakti Shayari or Patriotic Shayari is written by almost all the best poets like Faiz Ahmad Faiz, Javed AkhterBashir BadrRahat IndoriJaun Eliya and Kaifi Azmi, etc.

Before Staring my post on Desh Bhakti Shayari or Patriotic Shayari. I like to write a few lines on my Patriotism or Desh Bhakti.

Patriotism is the feeling of love, regard, and honor for your country, its history, and its traditions and culture. Patriotism is a common and reasonably the most significant factor of the country’s progress. It is associated with the respect of law and universal liberty, the search for the common good, and the commitment to behave nicely toward one’s homeland.

So here I mark the most suitable Couplet(Sher) of stablest Shayar’s on Desh Bhakti Shayari or Patriotic Shayari.

Desh Bhakti Shayari

Patriotic Shayari

Dukh me sukh me har halat me bharat dil ka sahara hai
bharat pyara desh hamara sab desho se pyara hai

दुख मे सुख मे हर हालत मे भारत दिल का सहारा है
भारत प्यारा देश हमारा सब देशो से प्यारा है

Sarfaroshi ki tamanna ab hamare dil me hai
Dekhna hai zor kitna bazu-e-qatil me hai

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल मे है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल मे है

Desh Bhakti Shayari 1

Desh Bhakti Shayari

Patriotic Shayari

Hum amn chahte hain magar zulm ke KHilaf
Gar jang lazmi hai to phir jang hi sahi

हम अमन चाहते हैं मगर ज़ुल्म के खिलाफ
गर जंग लाज़मी है तो फिर जंग ही सही

Saare jahan se acha hindosta hamara
Ham bulbule hai is ke ye gulsita hamara

सारे जहाँ से अच्छा हिंदोस्ता हमारा
हम बुलबुले है इस के ये गुलसिताँ हमारा

Desh Bhakti Shayari 2

Dil se niklegi na mar kar bhi watan ki ulfat
Meri mitti se bhi khushbu-e-wafa aaegi

दिल से निकलेगी ना मर कर भी वाटन की उलफत
मेरी मिट्टी से भी खुश्बू-ए-वफ़ा आएगी

Lahu watan ke shaheedo ka rang laya hai
Uchal raha hai zamane me nam-e-Azadi

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है
उछल रहा है ज़माने मे नाम-ए-आज़ादी

Desh Bhakti Shayari 3

Desh Bhakti Shayari

Patriotic Shayari

Isi jagah isi din to hua tha ye elaan
andhere haar gae zindabaad hindostan

इसी जगह इसी दिन तो हुआ था ये एलान
अंधेरे हार गए ज़िंदाबाद हिन्दोस्तान

Dilo me hubb-e-watan hai agar to ek raho
Nikharna ye chaman hai agar to ek raho

दिलो मे हुब्ब-ए-वतन है अगर तो एक रहो
निखारना ये चमन है अगर तो एक रहो

Desh Bhakti Shayari 4

Watan ke jaa-nisaar hai watan ke kaam aaenge
Ham is zami ko ek roz asmaan banaenge

वतन की पसबानी जान-ओ-ईमान से भी अफ़ज़ल है
मैं अपने मुल्क की खातिर कफ़न भी साथ रखता हू

Bharat ke aye saputo himmat dikhae jaao
Duniya ke dil pe apna sikka bithae jaao

भारत के आए सपुतो हिम्मत दिखाए जाओ
दुनिया के दिल पे अपना सिक्का बिठाए जाओ

Desh Bhakti Shayari 5

Desh Bhakti Shayari

Patriotic Shayari

Watan ki pasbaani jan-o-iman se bhi afzal hai
Mai apne mulk ki khatir kafan bhi saath rakhta hu

वतन की पसबानी जान-ओ-ईमान से भी अफ़ज़ल है
मैं अपने मुल्क की खातिर कफ़न भी साथ रखता हू

Naqus se Gharaz hai na matlab azaan se hai
Mujh ko agar hai ishq to hindostan se hai

नाक़ूस से ग़रज़ है ना मतलब अज़ान से है
मुझ को अगर है इश्क़ तो हिन्दोस्तान से है

Desh Bhakti Shayari 6

Kaha hai aaj wo sham-e-watan ke parvane
Bane hai aaj haqiqat unhi ke afsane

कहा है आज वो शाम-ए-वतन के परवाने
बने है आज हक़ीक़त उन्ही के अफ़साने

Hai mohabbat is watan se apni mite se hame
Is liye apna karenge jan-o-tan qurban ham

है मोहब्बत इस वतन से अपनी मिट्टी से हमे
इस लिए अपना करेंगे जान-ओ-तन क़ुरबान हम

Desh Bhakti Shayari 7

Desh Bhakti Shayari

Patriotic Shayari

Mai ne Aankho me jala rakha hai azadi ka tel
Mat andhero se Dara rakh, Ki mai jo hu so hu

मैं ने आँखो मे जला रखा है आज़ादी का तेल
मत अंधेरो से डरा रख, की मैं जो हू सो हू

Kya karishma hai mere jazba-e-azadi ka
thi jo divar kabhi ab hai wo dar ki surat

क्या करिश्मा है मेरे जज़्बा-ए-आज़ादी का
थी जो दीवार कभी अब है वो दर की सूरत

Desh Bhakti Shayari 8

Kuch usulon ka nasha tha kuch muqaddas khwab the
Har zamane me shahadat ke yahi asbab the

कुछ उसूलों का नशा था कुछ मुक़द्दस ख्वाब थे
हर ज़माने मे शहादत के यही असबाब थे

Koi to suud chukae koi to zimma le
Us inqalab ka jo aaj tak udhaar sa hai

कोई तो सूद चुकाए कोई तो ज़िम्मा ले
उस इंक़लाब का जो आज तक उधार सा है

Desh Bhakti Shayari 9

Zulm phir zulm hai badhta hai to mit jata hai
Khun phir Khun hai tapkega to jam jaega

ज़ुल्म फिर ज़ुल्म है बढ़ता है तो मिट जाता है
खून फिर खून है टपकेगा तो जम जाएगा

Inqalab aaega raftar se mayus na ho
Bahut ahista nahi hai jo bahut tez nahi

इंक़लाब आएगा रफ़्तार से मायूस ना हो
बहुत आहिस्ता नही है जो बहुत तेज़ नही

Desh Bhakti Shayari 10

Being a post-Shayari writer, I feel Shayari itself can impact one’s spirit and psychology and when we add the feeling of patriotism to it, the results are unbelievable. Those Ghazals and Nazms can request wonder and greatness. Indian Poetry or Shayari has been an expression of patriotism right from the days of our freedom contest and Hindustani poet or Shayar is patriotic as it is Indian to the core. I enjoy the freedom to quote these Patriotic Ghazals, Patriotic Sher’s and Patriotic Nazms for my country and outside representing the country. That, for me, is patriotism.”

I connect and influence the audience through Ghazals and Nazms of Desh Bhakti Shayari mention Below. 

Watan ki sar-zamin se ishq o ulfat hum bhi rakhte hai
Khatakti jo rahe dil me wo hasrat hum bhi rakhte hai

Zarurat ho to mar mitne ki himmat hum bhi rakhte hai
Ye jurat ye shujaat ye basalat hum bhi rakhte hai

Zamane ko hila dene ke dawe bandhne walo
Zamane ko hila dene ki taqat hum bhi rakhte hai

Bala se ho agar sara jahan un ki himayat par
Khuda-e-har-do-alam ki himayat hum bhi rakhte hai

Bahaar-e-gulshan-e-ummid bhi sairab ho jae
Karam ki aarzu ae abr-e-rahmat hum bhi rakhte hain

Gila na-mehrbani ka to sab se sun liya tum ne
Tumhaari mehrbani ki shikayat hum bhi rakhte hai

Bhalai ye ki aazadi se ulfat tum bhi rakhte ho
Burai ye ki aazadi se ulfat hum bhi rakhte hai

Hamara nam bhi shayad gunahgaron mein shamil ho
Janab-e-‘josh’ se sahab salamat hum bhi rakhte hain

Desh Bhakti Shayari

Patriotic Shayari

वतन की सर-ज़मीं से इश्क़ ओ उल्फ़त हम भी रखते हैं
खटकती जो रहे दिल में वो हसरत हम भी रखते हैं

ज़रूरत हो तो मर मिटने की हिम्मत हम भी रखते हैं
ये जुरअत ये शुजाअत ये बसालत हम भी रखते हैं

ज़माने को हिला देने के दावे बाँधने वालो
ज़माने को हिला देने की ताक़त हम भी रखते हैं

बला से हो अगर सारा जहाँ उन की हिमायत पर
ख़ुदा-ए-हर-दो-आलम की हिमायत हम भी रखते हैं

बहार-ए-गुलशन-ए-उम्मीद भी सैराब हो जाए
करम की आरज़ू ऐ अब्र-ए-रहमत हम भी रखते हैं

गिला ना-मेहरबानी का तो सब से सुन लिया तुम ने
तुम्हारी मेहरबानी की शिकायत हम भी रखते हैं

भलाई ये कि आज़ादी से उल्फ़त तुम भी रखते हो
बुराई ये कि आज़ादी से उल्फ़त हम भी रखते हैं

हमारा नाम भी शायद गुनहगारों में शामिल हो
जनाब-ए-‘जोश’ से साहब सलामत हम भी रखते हैं

Sarfaroshi ki tamanna ab hamare dil me hai
Dekhna hai zor kitna bazu-e-qatil mein hai

Ae shahid-e-mulk-o-millat mai tere upar nisar
Le teri himmat ka charcha ghair ki mahfil me hai

Wae qismat panw ki ai zoaf kuchh chalti nahin
Karwan apna abhi tak pahli hi manzil me hai

Shauq se rah-e-mohabbat ki musibat jhel le
Ek Khushi ka raaz pinhan jada-e-manzil mein hai

Aaj phir maqtal mein qatil kah raha hai bar bar
Aae wo shauq-e-shahadat jin ke jin ke dil me hai

Marne walo aao ab gardan katao shauq se
Ye ghanimat waqt hai Khanjar kaf-e-qatil me hai

Mane-e-izhaar tum ko hai haya, hum ko adab
Kuch tumhaare dil ke andar kuch hamare dil me hai

Mai-kada sunsan Khum ulTe pade hai jam chur
Sar-nigun baiTha hai saqi jo teri mahfil mein hai

Waqt aane de dikha denge tujhe ai aasman
Hum abhi se kyun bataen kya hamare dil mein hai

Ab na agle walwale hain aur na wo arman ki bheed
Sirf mit jaane ki ek hasrat dil-e-‘bismil’ me hai

Desh Bhakti Shayari

Patriotic Shayari

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

ऐ शहीद-ए-मुल्क-ओ-मिल्लत मैं तिरे ऊपर निसार
ले तिरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफ़िल में है

वाए क़िस्मत पाँव की ऐ ज़ोफ़ कुछ चलती नहीं
कारवाँ अपना अभी तक पहली ही मंज़िल में है

शौक़ से राह-ए-मोहब्बत की मुसीबत झेल ले
इक ख़ुशी का राज़ पिन्हाँ जादा-ए-मंज़िल में है

आज फिर मक़्तल में क़ातिल कह रहा है बार बार
आएँ वो शौक़-ए-शहादत जिन के जिन के दिल में है

मरने वालो आओ अब गर्दन कटाओ शौक़ से
ये ग़नीमत वक़्त है ख़ंजर कफ़-ए-क़ातिल में है

माने-ए-इज़हार तुम को है हया, हम को अदब
कुछ तुम्हारे दिल के अंदर कुछ हमारे दिल में है

मय-कदा सुनसान ख़ुम उल्टे पड़े हैं जाम चूर
सर-निगूँ बैठा है साक़ी जो तिरी महफ़िल में है

वक़्त आने दे दिखा देंगे तुझे ऐ आसमाँ
हम अभी से क्यूँ बताएँ क्या हमारे दिल में है

अब न अगले वलवले हैं और न वो अरमाँ की भीड़
सिर्फ़ मिट जाने की इक हसरत दिल-ए-‘बिस्मिल’ में है

As said by Ravish Kumar Managing Editor, NDTV India, “Patriotism for me is the pureness of information. The more realistic and trustworthy the information, the greater will be the trust between people The credibility of information has to be renovated. Institutions have to be fair. India has become a country of a one-party narrative. Whoever is not saying ‘yes’ is being labeled a traitor. This narrative of nationalism is dangerous. It divides people. It excludes. We have to stop this language of separation.

Here I connect the audience through Nazm of Allama Iqbaal “Hindustani bachchon ka qaumi geet“. It is one of the best Desh Bhakti Shayari.

Chishti ne jis zamin me paigham-e-haq sunaya
Nanak ne jis chaman me wahdat ka git gaya
Tatariyon ne jis ko apna watan banaya
Jis ne hijaziyon se dasht-e-arab chhudaya
Mera watan wahi hai mera watan wahi hai

Yunaniyon ko jis ne hairan kar diya tha
Sare jahan ko jis ne ilm o hunar diya tha
Mitti ko jis ki haq ne zar ka asar diya tha
turko ka jis ne daman hiron se bhar diya tha
Mera watan wahi hai mera watan wahi hai

Tute the jo sitare faras ke aasman se
Phir tab de ke jis ne chamkae kahkashan se
Wahdat ki lai suni thi duniya ne jis makan se
Mir-e-arab ko aai Thandi hawa jahan se
Mera watan wahi hai mera watan wahi hai

Bande kalim jis ke parbat jahan ke sina
Nuh-e-nabi ka aa kar Thahra jahan safina
Rifat hai jis zamin ki baam-e-falak ka zina
Jannat ki zindagi hai jis ki faza me jina
Mera watan wahi hai mera watan wahi hai

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari in Hindi

चिश्ती ने जिस ज़मीं में पैग़ाम-ए-हक़ सुनाया
नानक ने जिस चमन में वहदत का गीत गाया
तातारियों ने जिस को अपना वतन बनाया
जिस ने हिजाज़ियों से दश्त-ए-अरब छुड़ाया
मेरा वतन वही है मेरा वतन वही है

यूनानियों को जिस ने हैरान कर दिया था
सारे जहाँ को जिस ने इल्म ओ हुनर दिया था
मिट्टी को जिस की हक़ ने ज़र का असर दिया था
तुर्कों का जिस ने दामन हीरों से भर दिया था
मेरा वतन वही है मेरा वतन वही है

टूटे थे जो सितारे फ़ारस के आसमाँ से
फिर ताब दे के जिस ने चमकाए कहकशाँ से
वहदत की लय सुनी थी दुनिया ने जिस मकाँ से
मीर-ए-अरब को आई ठंडी हवा जहाँ से
मेरा वतन वही है मेरा वतन वही है

बंदे कलीम जिस के पर्बत जहाँ के सीना
नूह-ए-नबी का आ कर ठहरा जहाँ सफ़ीना
रिफ़अत है जिस ज़मीं की बाम-ए-फ़लक का ज़ीना
जन्नत की ज़िंदगी है जिस की फ़ज़ा में जीना
मेरा वतन वही है मेरा वतन वही है

 

Fact, 80% of the Poetry we listen, we’ve listened before. Why, when there are hundreds of thousands of Poetry released every year, do we choose to listen to the same ones again and again? The reason may be rooted in psychology but here one of the favorite Nazm of “AHMAQ PHAPHOONDVI” which I wish to listen again and again. It is one of the best Desh Bhakti Shayari. So let’s begin

Jag se bhala sansar se pyara
Dil ki Thandak aankh ka tara
Sab se anokha sab se nyara
Duniya ke jine ka sahaara
Pyara bhaarat des hamara

Kitni pur-kaif is ki adae
Kitni dilkash is ki fazae
Mushk se baDh kar is ki hawaen
Khuld se behtar is ka nazara
Pyara bhaarat des hamara

Mulk ko hasil ho aazadi
Khatm ho daur-e-sitam-ijadi
Dur ho is ki sab barbaadi
Charkh pe chamke ban ke tara
Pyara bhaarat des hamara

Hum me paida ho yak-jai
Sab hon baham bhai bhai
Hindu muslim, sikh, isai
Gae mil kar git ye pyara
Pyara bhaarat des hamara

Desh Bhakti Shayari

Desh Bhakti Shayari in Hindi

जग से भला संसार से प्यारा
दिल की ठंडक आँख का तारा
सब से अनोखा सब से न्यारा
दुनिया के जीने का सहारा
प्यारा भारत देस हमारा

कितनी पुर-कैफ़ इस की अदाएँ
कितनी दिलकश इस की फ़ज़ाएँ
मुश्क से बढ़ कर इस की हवाएँ
ख़ुल्द से बेहतर इस का नज़ारा
प्यारा भारत देस हमारा

मुल्क को हासिल हो आज़ादी
ख़त्म हो दौर-ए-सितम-ईजादी
दूर हो इस की सब बर्बादी
चर्ख़ पे चमके बन के तारा
प्यारा भारत देस हमारा

हम में पैदा हो यक-जाई
सब हों बाहम भाई भाई
हिन्दू मुस्लिम, सिख, ईसाई
गाएँ मिल कर गीत ये प्यारा
प्यारा भारत देस हमारा

So it is our latest collection Desh Bhakti Shayari and we will refresh from time to time. If you liked then please tell us how was your opinion about this collection Desh Bhakti Shayari. Please write to us in the comment box.

Romantic Shayari for Wife|Best 20+ Sher of Famous Poets

Best Friend Shayari in Hindi|Top 30+ Sher of Famous Poets.

Javed Akhtar Shayari in Hindi|An Famous poet and lyricist of 20th Century

Gulzar Shayari in Hindi|Gulzar Shayari|An Famous Poetry of 2020

 

Leave a Comment

Open

Close