Search
Generic filters
Exact matches only
Filter by Custom Post Type
majaz shayari

Majaz Shayari|An Excellent Poetry of 19th Century

Majaz Shayari is famous for his Nazm Awaara, Raat Aur Rail and AMU Tarana and it is very Popular in AMU Campus. Majaz is a very famous Urdu Poet.

Asrar ul Haq Majaz ‎ commonly known as Majaz Lakhnawi ‎ Born on 19 October 1911 at Rudauli in BaraBanki(U.P.) and died on 5 December 1955 was an Indian Urdu poet. He was known for his romantic and revolutionary poetry. He writes many Nazm and Ghazal. He was the uncle of poet and screenplay writer Javed Akhtar.

majaz shayari 1

Before losing any time I would like to write Majaz Famous Nazm Awaara, This Nazm is a very popular part of Majaz Shayari.

Majaz Shayari

Majaz Shayari in Hindi

Awaara

Shaher ki raat aur main nashad o nakara phiru
Jagmagati jagti sadkon pe aawara phirun
Ghair ki basti hai kab tak dar-ba-dar mara phiru
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Jhilmilate qumqumo ki rah mein zanjir si
Raat ke hatho mein din ki mohni taswir si
Mere sine par magar rakhi hui shamshir si
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Ye rupahli chhanw ye aakash par taron ka jal
Jaise sufi ka tasawwur jaise aashiq ka khayal
Aah lekin kaun jaane kaun samjhe ji ka haal
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Phir wo tuta ek sitara phir wo chhuti phul-jadi
Jaane kis ki god mein aai ye moti ki ladi
Huk si sine mein utthi chot si dil par padi
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Raat hans hans kar ye kahti hai ki mai-khane me chal
Phir kisi shahnaz-e-lala-rukh ke kashane me chal
ye nahin mumkin to phir ae dost virane me chal
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Har taraf bikhri hui ranginiyan ranaiyan
Har qadam par ishraten leti hui angdaiyan
badh rahi hain god phailae hue ruswaiyan
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Raste mein ruk ke dam le lun meri aadat nahin
Laut kar wapas chala jaun meri fitrat nahin
Aur koi ham-nawa mil jae ye qismat nahin
Ae gham-e-dil kya karu ai wahshat-e-dil kya karu

Muntazir hai ek tufan-e-bala mere liye
Ab bhi jaane kitne darwaze hai wa mere liye
Par musibat hai mera ahd-e-wafa mere liye
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Ji mein aata hai ki ab ahd-e-wafa bhi tod dun
unko pa sakta hun main ye aasra bhi tod dun
Han munasib hai ye zanjir-e-hawa bhi tod dun
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Ek mahal ki aad se nikla wo pila mahtab
Jaise mulla ka amama jaise baniye ki kitab
jaise muflis ki jawani jaise bewa ka shabab
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Dil mein ek shoala bhadak utha hai aakhir kya karu
mera paimana chhalak utha hai aakhir kya karu
zakhm sine ka mahak utha hai aakhir kya karu
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Ji me aata hai ye murda chand tare noch lun
Is kinare noch lun aur us kinare noch lun
Ek do ka zikr kya sare ke sare noch lun
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Muflisi aur ye mazahir hai nazar ke samne
saikdon sultan-e-jabir hain nazar ke samne
saikdon changez o nadir hain nazar ke samne
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Le ke ek changez ke hathon se Khanjar tod du
Taj par us ke damakta hai jo patthar tod du
koi tode ya na tode main hi badh kar tod dun
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Badh ke us indar sabha ka saz o saman phunk du
Us ka gulshan phunk dun us ka shabistan phunk du
takht-e-sultan kya mai sara qasr-e-sultan phunk du
Ae gham-e-dil kya karu Ae wahshat-e-dil kya karu

Majaz Shayari

Majaz Shayari in Hindi

Awaara in Hindi

शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ
जगमगाती जागती सड़कों पे आवारा फिरूँ
ग़ैर की बस्ती है कब तक दर-ब-दर मारा फिरूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

झिलमिलाते क़ुमक़ुमों की राह में ज़ंजीर सी
रात के हाथों में दिन की मोहनी तस्वीर सी
मेरे सीने पर मगर रखी हुई शमशीर सी
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

ये रुपहली छाँव ये आकाश पर तारों का जाल
जैसे सूफ़ी का तसव्वुर जैसे आशिक़ का ख़याल
आह लेकिन कौन जाने कौन समझे जी का हाल
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

फिर वो टूटा इक सितारा फिर वो छूटी फुल-जड़ी
जाने किस की गोद में आई ये मोती की लड़ी
हूक सी सीने में उठ्ठी चोट सी दिल पर पड़ी
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

रात हँस हँस कर ये कहती है कि मय-ख़ाने में चल
फिर किसी शहनाज़-ए-लाला-रुख़ के काशाने में चल
ये नहीं मुमकिन तो फिर ऐ दोस्त वीराने में चल
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

हर तरफ़ बिखरी हुई रंगीनियाँ रानाइयाँ
हर क़दम पर इशरतें लेती हुई अंगड़ाइयाँ
बढ़ रही हैं गोद फैलाए हुए रुस्वाइयाँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

रास्ते में रुक के दम ले लूँ मिरी आदत नहीं
लौट कर वापस चला जाऊँ मिरी फ़ितरत नहीं
और कोई हम-नवा मिल जाए ये क़िस्मत नहीं
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

मुंतज़िर है एक तूफ़ान-ए-बला मेरे लिए
अब भी जाने कितने दरवाज़े हैं वा मेरे लिए
पर मुसीबत है मिरा अहद-ए-वफ़ा मेरे लिए
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

जी में आता है कि अब अहद-ए-वफ़ा भी तोड़ दूँ
उन को पा सकता हूँ मैं ये आसरा भी तोड़ दूँ
हाँ मुनासिब है ये ज़ंजीर-ए-हवा भी तोड़ दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

इक महल की आड़ से निकला वो पीला माहताब
जैसे मुल्ला का अमामा जैसे बनिए की किताब
जैसे मुफ़्लिस की जवानी जैसे बेवा का शबाब
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

दिल में इक शोला भड़क उट्ठा है आख़िर क्या करूँ
मेरा पैमाना छलक उट्ठा है आख़िर क्या करूँ
ज़ख़्म सीने का महक उट्ठा है आख़िर क्या करूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

जी में आता है ये मुर्दा चाँद तारे नोच लूँ
इस किनारे नोच लूँ और उस किनारे नोच लूँ
एक दो का ज़िक्र क्या सारे के सारे नोच लूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

मुफ़्लिसी और ये मज़ाहिर हैं नज़र के सामने
सैकड़ों सुल्तान-ए-जाबिर हैं नज़र के सामने
सैकड़ों चंगेज़ ओ नादिर हैं नज़र के सामने
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

ले के इक चंगेज़ के हाथों से ख़ंजर तोड़ दूँ
ताज पर उस के दमकता है जो पत्थर तोड़ दूँ
कोई तोड़े या न तोड़े मैं ही बढ़ कर तोड़ दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

बढ़ के उस इन्दर सभा का साज़ ओ सामाँ फूँक दूँ
उस का गुलशन फूँक दूँ उस का शबिस्ताँ फूँक दूँ
तख़्त-ए-सुल्ताँ क्या मैं सारा क़स्र-ए-सुल्ताँ फूँक दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

Majaz Poetry not only move around romance and life. He is deep observer, you can analyse this think by reading his famous Nazm Raat Aur Rail. When you read this Nazm you found yourself sitting in the Train and observe these moement. In My opinion this Nazm should included  as a poem in Indian Railways.

Majaz Shayari

Majaz Shayari in Hindi

Raat Aur Rail

Phir chali hai rail station se lahraati hui
Nim-shab ki Khamoshi me zer-e-lab gati hui
Dagmagati jhumti siti bajati khelti
wadi o kohsar ki Thandi hawa khati hui

Tez jhonkon me wo chham chham ka surud-e-dil-nashin
Aandhiyon me me barasne ki sada aati hui
Jaise maujon ka tarannum jaise jal-pariyon ke geet
Ek ek lai mein hazaron zamzame gati hui
Naunihaalon ko sunati miThi miThi loriyan
Nazninon ko sunahre Khwab dikhlati hui

Thokaren kha kar lachakti gungunati jhumti
sarkhushi mein ghungruon ki tal par gati hui
Naz se har mod par khati hui sau pech-o-Kham
ek dulhan apni ada se aap sharmati hui
Raat ki tarikiyon mein jhilmilati kanpti

Patriyon par dur tak simab jhalkati hui
Jaise aadhi raat ko nikli ho ek shahi baraat
Shadyanon ki sada se wajd mein aati hui
Muntashir kar ke faza mein ja-ba-ja chingariyan
Daman-e-mauj-e-hawa mein phul barsati hui
Tez-tar hoti hui manzil-ba-manzil dam-ba-dam
Rafta rafta apna asli rup dikhlati hui

Sina-e-kohsar par chadhti hui be-ikhtiyar
Ek nagan jis tarah masti mein lahraati hui
Ek sitara TuT kar jaise rawan ho arsh se
Rifat-e-kohsar se maidan mein aati hui
Ek bagule ki tarah badhti hui maidan mein
Jangalon me aandhiyon ka zor dikhlati hui
Rasa-bar-andam karti anjum-e-shab-tab ko
Aashiyan mein tair-e-wahshi ko chaunkati hui

Yaad aa jae purane dewtaon ka jalal
Un qayamat-Kheziyon ke sath bal khati hui
Ek rakhsh-e-be-inan ki barq-raftari ke sath
Khandaqon ko phandti Tilon se katraati hui
Murgh-zaron mein dikhati ju-e-shirin ka KHiram
Wadiyon mein abr ke manind manDlati hui
Ek pahaDi par dikhati aabshaaron ki jhalak
Ek bayaban mein charagh-e-tur dikhlati hui

Justuju mein manzil-e-maqsud ki diwana-war
Apna sar dhunti faza mein baal bikhraati hui
Chhedti ek wajd ke aalam mein saz-e-sarmadi
Ghaiz ke aalam mein munh se aag barsati hui
Rengti mudti machalti tilmilati hanpti
Apne dil ki aatish pinhan ko bhadkati hui
KHud-ba-KHud ruThi hui biphri hui bikhri hui
Shor-e-paiham se dil-e-giti ko dhadkati hui
Pul pe dariya ke dama-dam kaundti lalkarti
apni is tufan-angezi pe itraati hui

Pesh karti bich naddi mein charaghan ka saman
Sahilon par ret ke zarron ko chamkati hui
Munh mein ghusti hai surangon ke yakayak dauD kar
Dandanati chikhti chinghadti gati hui
Aage Aage justuju-amez nazren Dalti
shab ke haibatnak nazaron se ghabraati hui
ek mujrim ki tarah sahmi hui simti hui
ek muflis ki tarah sardi mein tharraati hui

Tez-e-raftar ke sikke jamati ja-ba-ja
Dasht o dar mein zindagi ki lahar dauDati hui
Dal kar guzre manazir par andhere ka naqab
Ek naya manzar nazar ke samne lati hui
Safha-e-dil se mitati ahd-e-mazi ke nuqush
haal o mustaqbil ke dilkash KHwab dikhlati hui

Dalti be-his chatanon par haqarat ki nazar
koh par hansti falak ko aankh dikhlati hui
daman-e-tariki-e-shab ki udati dhajjiyan
Qasr-e-zulmat par musalsal tir barsati hui
Zad mein koi chiz aa jae to us ko pis kar
Irtiqa-e-zindagi ke raaz batlati hui
Zoam mein peshani-e-sahra pe Thokar marti
Phir subuk-raftariyon ke naz dikhlati hui

Ek sarkash fauj ki surat alam khole hue
Ek tufani garaj ke sath Daraati hui
Ek ek harkat se andaz-e-baghawat aashkar
Azmat-e-insaiyat ke zamzame gati hui
Har qadam par top ki si ghan-garaj ke sath sath
Goliyon ki sansanahat ki sada aati hui
Wo hawa mein saikaDon jangi duhal bajte hue
Wo bigul ki jaan-fazan aawaz lahraati hui
Al-gharaz uDti chali jati hai be-KHauf-o-KHatar
Shair-e-atish-nafas ka KHun khaulati hui

Majaz Shayari

Majaz Shayari in Hindi

Raat Aur Rail in Hindi

फिर चली है रेल स्टेशन से लहराती हुई
नीम-शब की ख़ामुशी में ज़ेर-ए-लब गाती हुई
डगमगाती झूमती सीटी बजाती खेलती
वादी ओ कोहसार की ठंडी हवा खाती हुई

तेज़ झोंकों में वो छम छम का सुरूद-ए-दिल-नशीं
आँधियों में मेंह बरसने की सदा आती हुई
जैसे मौजों का तरन्नुम जैसे जल-परियों के गीत
एक इक लय में हज़ारों ज़मज़मे गाती हुई
नौनिहालों को सुनाती मीठी मीठी लोरियाँ
नाज़नीनों को सुनहरे ख़्वाब दिखलाती हुई

ठोकरें खा कर लचकती गुनगुनाती झूमती
सरख़ुशी में घुँगरुओं की ताल पर गाती हुई
नाज़ से हर मोड़ पर खाती हुई सौ पेच-ओ-ख़म
इक दुल्हन अपनी अदा से आप शरमाती हुई
रात की तारीकियों में झिलमिलाती काँपती
पटरियों पर दूर तक सीमाब झलकाती हुई

जैसे आधी रात को निकली हो इक शाही बरात
शादयानों की सदा से वज्द में आती हुई
मुंतशिर कर के फ़ज़ा में जा-ब-जा चिंगारियाँ
दामन-ए-मौज-ए-हवा में फूल बरसाती हुई
तेज़-तर होती हुई मंज़िल-ब-मंज़िल दम-ब-दम
रफ़्ता रफ़्ता अपना असली रूप दिखलाती हुई

सीना-ए-कोहसार पर चढ़ती हुई बे-इख़्तियार
एक नागन जिस तरह मस्ती में लहराती हुई
इक सितारा टूट कर जैसे रवाँ हो अर्श से
रिफ़अत-ए-कोहसार से मैदान में आती हुई
इक बगूले की तरह बढ़ती हुई मैदान में
जंगलों में आँधियों का ज़ोर दिखलाती हुई
रासा-बर-अंदाम करती अंजुम-ए-शब-ताब को
आशियाँ में ताइर-ए-वहशी को चौंकाती हुई

याद आ जाए पुराने देवताओं का जलाल
उन क़यामत-ख़ेज़ियों के साथ बल खाती हुई
एक रख़्शर-ए-बे-अनाँ की बर्क़-रफ़्तारी के साथ
ख़ंदक़ों को फाँदती टीलों से कतराती हुई
मुर्ग़-ज़ारों में दिखाती जू-ए-शीरीं का ख़िराम
वादियों में अब्र के मानिंद मंडलाती हुई
इक पहाड़ी पर दिखाती आबशारों की झलक
इक बयाबाँ में चराग़-ए-तूर दिखलाती हुई

जुस्तुजू में मंज़िल-ए-मक़्सूद की दीवाना-वार
अपना सर धुनती फ़ज़ा में बाल बिखराती हुई
छेड़ती इक वज्द के आलम में साज़-ए-सरमदी
ग़ैज़ के आलम में मुँह से आग बरसाती हुई
रेंगती मुड़ती मचलती तिलमिलाती हाँफती
अपने दिल की आतिश पिन्हाँ को भड़काती हुई
ख़ुद-ब-ख़ुद रूठी हुई बिफरी हुई बिखरी हुई
शोर-ए-पैहम से दिल-ए-गीती को धड़काती हुई
पुल पे दरिया के दमा-दम कौंदती ललकारती
अपनी इस तूफ़ान-अंगेज़ी पे इतराती हुई

पेश करती बीच नद्दी में चराग़ाँ का समाँ
साहिलों पर रेत के ज़र्रों को चमकाती हुई
मुँह में घुसती है सुरंगों के यकायक दौड़ कर
दनदनाती चीख़ती चिंघाड़ती गाती हुई
आगे आगे जुस्तुजू-आमेज़ नज़रें डालती
शब के हैबतनाक नज़्ज़ारों से घबराती हुई
एक मुजरिम की तरह सहमी हुई सिमटी हुई
एक मुफ़लिस की तरह सर्दी में थर्राती हुई

तेज़ी-ए-रफ़्तार के सिक्के जमाती जा-ब-जा
दश्त ओ दर में ज़िंदगी की लहर दौड़ाती हुई
डाल कर गुज़रे मनाज़िर पर अंधेरे का नक़ाब
इक नया मंज़र नज़र के सामने लाती हुई
सफ़्हा-ए-दिल से मिटाती अहद-ए-माज़ी के नुक़ूश
हाल ओ मुस्तक़बिल के दिलकश ख़्वाब दिखलाती हुई

डालती बे-हिस चटानों पर हक़ारत की नज़र
कोह पर हँसती फ़लक को आँख दिखलाती हुई
दामन-ए-तीरीकी-ए-शब की उड़ाती धज्जियाँ
क़स्र-ए-ज़ुल्मत पर मुसलसल तीर बरसाती हुई
ज़द में कोई चीज़ आ जाए तो उस को पीस कर
इर्तिक़ा-ए-ज़िंदगी के राज़ बतलाती हुई
ज़ोम में पेशानी-ए-सहरा पे ठोकर मारती
फिर सुबुक-रफ़्तारियों के नाज़ दिखलाती हुई

एक सरकश फ़ौज की सूरत अलम खोले हुए
एक तूफ़ानी गरज के साथ डराती हुई
एक इक हरकत से अंदाज़-ए-बग़ावत आश्कार
अज़्मत-ए-इंसानियत के ज़मज़मे गाती हुई
हर क़दम पर तोप की सी घन-गरज के साथ साथ
गोलियों की सनसनाहट की सदा आती हुई
वो हवा में सैकड़ों जंगी दुहल बजते हुए
वो बिगुल की जाँ-फ़ज़ाँ आवाज़ लहराती हुई
अल-ग़रज़ उड़ती चली जाती है बे-ख़ौफ़-ओ-ख़तर
शाइर-ए-आतिश-नफ़स का ख़ून खौलाती हुई

An poet is not complete without Ghazal, Ghazal in not complete without Romantic Sher. So here it is must for me to write some of famous romantic and Heart touching ghazal of Majaz Shayari.

Majaz Shayari

Majaz Shayari in Hindi

 

KHud dil mein rah ke aankh se parda kare koi
Ha lutf jab hai pa ke bhi Dhunda kare koi

Tum ne to hukm-e-tark-e-tamanna suna diya
Kis dil se aah tark-e-tamanna kare koi

Duniya laraz gai dil-e-hirman-nasib ki
Is tarah saz-e-aish na chheda kare koi

Mujh ko ye aarzu wo uThaen naqab KHud
Un ko ye intizar taqaza kare koi

Rangini-e-naqab mein gum ho gai nazar
Kya be-hijabiyon ka taqaza kare koi

Ya to kisi ko jurat-e-didar hi na ho
Ya phir meri nigah se dekha kare koi

Hoti hai is me husn ki tauhin ae ‘majaz’
Itna na ahl-e-ishq ko ruswa kare koi

ख़ुद दिल में रह के आँख से पर्दा करे कोई
हाँ लुत्फ़ जब है पा के भी ढूँडा करे कोई

तुम ने तो हुक्म-ए-तर्क-ए-तमन्ना सुना दिया
किस दिल से आह तर्क-ए-तमन्ना करे कोई

दुनिया लरज़ गई दिल-ए-हिरमाँ-नसीब की
इस तरह साज़-ए-ऐश न छेड़ा करे कोई

मुझ को ये आरज़ू वो उठाएँ नक़ाब ख़ुद
उन को ये इंतिज़ार तक़ाज़ा करे कोई

रंगीनी-ए-नक़ाब में गुम हो गई नज़र
क्या बे-हिजाबियों का तक़ाज़ा करे कोई

या तो किसी को जुरअत-ए-दीदार ही न हो
या फिर मिरी निगाह से देखा करे कोई

होती है इस में हुस्न की तौहीन ऐ ‘मजाज़’
इतना न अहल-ए-इश्क़ को रुस्वा करे कोई

As i said An poet is not complete without Sher. So here i update few couplet(sher) of  Majaz Shayari.

Majaz Shayari

Majaz Shayari in Hindi

Tere mathe pe ye Aanchal bahut hi khuub hai lekin
Tu is Aanchal se ek parcham bana leti to achcha tha

तेरे माथे पे ये आँचल बहुत ही ख़ूब है लेकिन
तू इस आँचल से एक परचम बना लेती तो अच्छा था

Mujh ko ye aarzu wo uthae naqab khud
Un ko ye intizaar taqaza kare koi

मुझ को ये आरज़ू वो उठाए नक़ाब खुद
उन को ये इंतिज़ार तक़ाज़ा करे कोई

Roe na na abhi ahl-e-nazar haal pe mere
Hona hai abhi mujh ko kharab aur zyada

रोए ना ना अभी आहल-ए-नज़र हाल पे मेरे
होना है अभी मुझ को खराब और ज़्यादा

majaz shayari 2

Husn ko sharmsar karna hi
ishq ka intiqam hota hai

हुस्न को शर्मसार करना ही
इश्क़ का इंतिक़ाम होता है

Aankh se aankh jab nahi milti
Dil se dil ham-kalam hota hai

आँख से आँख जब नही मिलती
दिल से दिल हम-कलाम होता है

Majaz Shayari 4

 

Before writing this post I surf the internet to find more interesting facts about Majaz Shayari, I found an Interview with SM Mehndi who is a close friend of Majaz. So Here I attach the video of that Interview.

 

 

So it is our latest collection Majaz Shayari and we will update from time to time. If you liked then please tell us that how was your opinion about this collection Majaz Shayari. Please write to us in the comment box

Daag Dehlvi Shayari in Hindi-An Extraordinary Poetry of 18th Century.

Gulzar Shayari in Hindi|Gulzar Shayari|An Famous Poetry of 2020

Mirza Ghalib Poetry-An Extraordinary Poetry of 18th Century.

 

 

 

 

Leave a Comment

Open

Close